उस चुड़ैल के साथ बिताया हुआ एक काली अमाबस्यआ की रात

हेल्लो दोस्तों मेरा नाम राजबीर है ,और मई राजस्थान का रहेने वाला हु .मई इंजीनियरिंग का स्टूडेंट हु .ये अज से करीब दो ढाई साल पहेली की बात है .तब मई कॉलेज में नया एडमिशन लिया ,और रहेने के लिए घर ढूंड रहा था .
पराई में मई तेज था इसलिए मुझे जल्दी जल्दी एडमिशन मिल गया था ,और पड़ने के सुबिधा के लिए मैंने गायों के बहार एक सुमसन जिगा पे किराया का माकान ले लिया ,मुझे वोह जगा पसंद था पड़ने के लिए बिलकुल सही था ,और मई किसी डिस्टर्ब के बिना ही पढ़ सकता था .

हलाकि मई ने जब हमारे दोस्त को वोह मकान के बारे में बताया तो उनके सकल में थोडा सा घबराहट देखा ,मैंने उतना गौर नहीं किया ,क्यों की मकान भी मुझे सस्ते में मिला था ,इसीलिए मुझे लगा की दोस्त जो है मुझसे जल रहा है ,और वैसे भी मई क्लास का टोपर हु .

आस पास उतना कोई घर भी नहीं है ,पास में एक बारा सा हवेली है ,सुनने में आया है की वोहा कोई नहीं रहेता है ,पर अज से बोहोत पहेले वहा पे राज खानदान के वारिस रहेते थे .

उसदिन साम का बक्त था ,और मई कॉल्लेग से लौट रहा था ,और उसदिन अमबस्या का काली रात था ,रात होतेही वोह जैगा एकदम सुनसान हो जाता है ,और रात के सन्नाटे मुझे और भी लुभाता है .

रास्ते में मुझे एक लड़की दिखी जो हाथ दिखा रहा था ,मेरा बाइक रोकने के लिए ,मई सोचा पहेले निकल जाऊ ,फिर लगा की इतने रात में वोह बेचारी अकेली जायगी किधर और फिर कोई मुसीबत भी हो सकता है उसके साथ ,तो मई रोकने का फैसला लिया  antarvasna story.

सामने आया तो देखा की वोह औरत कुछ ३० से ३२ साल की आसपास है ,और एक लाल साडी पहेनी हुई है ,होठो में गाडा लिपस्टिक है ,और देखने में लग रहा था कोई आमिर खानदान की है .मैंने उनको पूछा की इतने रात को वोह अकेली क्या कर रही है इस सुनसान सड़क में ?

तो उसने बताया की वोह रास्ता भटक गयी है ,और अँधेरा अगेया अब घर लौट नहीं पा रहा है .तो मैंने कहा ठीक है आप मेरे बाइक में बैठिये और आपको कहा जाना है बाता दीजिये मई आपको वोही छोड़ देता हु .

तो उसने मुस्कुराके मेरे बेक सीट में बैठ गयी और मेरा कामद को कसके पकड़ लिया ,उसका सास मई स्पस्ट तरीके से महेसुस कर पा रह था .उसका body परफ्यूम भी लाजबाब था और आइने फिर से पूछना स्टार्ट किया ,”की आप कहा पे रहेती है ?”

तो उसने बताया -हवेली में .

मई थोडा सा चौक उठा क्यों की गाओ में एक ही हवेली है और जो मेरे घर से कुछ ५ मिनिट की दुरी में ,मैंने उनसे फिर पूछा ,”आप कौनसी हवेली में रहेती है ?”

तो उनोने कहा ,गाव में एक ही हवेली है और जिसमे मई नयी आया हु .”

मुझे पहेली बार लगा की सायद उसमे अभी नए लोग ए है सहर से तो मैंने और ज्यादा सवाल पुचा नहीं .अचानक बिजली कड़क ने लग गयी ,और पता नहीं कहासे बारिश भी अगेयी और हम दोनों पूरी तरीके से भीग गये बारिश में .

हवेली तक किसी तरीके से पोहोच पाए ,मेरे घर वहा से ज्यादा दुरी में था नहीं तो मई सोचा की वहा छोड़ के मई अपना घर चला जाऊंगा ,पर बारिश बोहोत होने लगी .

उस औरत ने कहा -आप भीग गये है ,चलिए हवेली में आराम कीजिये और अज की रात यही पे रुक जाइये ,मौसम बोहोत ही खाराप है ,आप को ठण्ड लग सकता है ,अगर भीगे कपड़ो में रहेंगे तो .

और सच में हम दोनों बोहोत भीग गये थे ,इसीलिए और कोई चारा भी था नहीं .मई जब उस औरत को देखा तो मुझे एक अलग सा अट्रैक्शन फील हुआ ,उसका चेहेड़ा ,उसका नशीला होठ और तड़पती हुती जवानी ,दिल में आग और हलचल पैदा कर रहा था .

वोह कपडा चंगे करने चली गयी और मुझे कहा ऊपर की कमरों में मेरा कपडा रक्खी है जो मुझे फिट हो जायेगा ,मई उपड की कमरों में जाके कपड़ा बदल ने लगा ,जो शर्ट मैंने पहेना वोह जैसे मेरे लिए ही बनी थी ,इतना फिट अगेया .

hindi antarvasna storyउस औरत ने निचे डाइनिंग हल में आग ज्वाला रही थी घर को गरम करने के लिए ,उन्होंने एक नाईट गाउन पहेनी थी और निचे कुछ नहीं पहेनी थी ,उनका सफ़ेद एकदम गोरी गोरी घुटना साफ़ दिखाई दे रहा था और उनके गांड से लिपटा हुआ गाउन से मेरा लैंड उसके गांड से लिपट न चाहता था .

उन्होंने हमारे लिए दो सराब की गिलास रेडी कर रही थी जिसमे रेड कलर की वाइन था ,इस बर्शाती काली रात में सब कुछ नशीला जैसे लग रहा था ,उनका बुढा सा नौकर हमारे लिए ग्लास ले के आया .

नौकर की उम्र कुछ ज्यादा ही था ,वोह ठीक से चल नहीं पा रहा था ,सायेद बीमार होगा  .मुझे पुराना वाइन से नशा चड़ने लगा .

मई उस औरत के नशदिक चला गया और खुद को रोक नहीं पाया उनको कास के मेरे बाहों में भर लिया अब उस चुड़ैल की जादू मेरे ऊपर पूरी तरीके से हाभी हो गया था .

उस औरत ने हासके  कहा-इतना भी जल्दी क्या है ,अभी तो रात बोहोत बाकि है .मुझे चुड़ैल की वोह हासी अभी तक मेरे जेहेन में है ,जब याद आता है तो मेरा काम सकती अज भी प्रबल हो जाता है उस चुड़ैल की चुदाई करने के लिए .

फिर क्या होना था ,एक अँधेरी रात और सुनसान बिस्तर में मई और मेरे साथ एक चुड़ैल था जो बर्षो से एक जवान मर्द की खोज में था ,उसका जादू बिद्या में सफल होने के लिए .मेरा कम रस जब उसके अन्दर समाएगी तो वोह बोहोत सारे काली सकती की मालकिन बन जाएगी .

उसरात मेरे अन्दर की सारि रस वोह चुड़ैल जैसे निचोर रहा था ,बिस्तर में पूरी रात उसके नाख़ून और चुदाई का शिकार हुआ ,चुड़ैल की चंगुल से जब बचा तो सुबह हो गया था और मई अधमरा हालत में एक पुराणी खान्दर में परा था ,नंगा .

पर अज भी वोह चुड़ैल के साथ बिताया हुआ रात याद करता हु ,तो मेरे रोम्टे खरे हो जाते है .

धन्यबाद ………………

Tags :kamukta ,antarvasna story,chodan ,www.chodan sabita bhabhi,chudail ki chudai ,hindi chudai stories

शेयर करे :

Updated: May 27, 2016 — 8:47 am

Join with 10,000 readers everyday and read new exciting story

Exclusive bhabhi aur aunty chudai kahani everyday-99Hindi sex story © 2016
error: